आदिवासी सेंगेल अभियान की बैठक संपन्न

0
179

 

*बिष्णुगढ़ :* बिष्णुगढ़ प्रखंड के जम्बुआ गांव में आदिवासी सेंगेल अभियान की बैठक की गई ।बैठक की अध्यक्षता बिष्णुगढ़ प्रखंड सेंगेल अध्यक्ष बाबुचंद हेम्ब्रम ने किया। मौके पर आदिवासी सेंगेल अभियान के झारखण्ड प्रदेश अध्यक्ष देवनारायण मुर्मू ने कहा कि आज आदिवासी अस्तित्व पर चारों ओर से हमला जारी है। आदिवासियों का हासा- भाषा, जाति, धर्म, इज्जत, आबादी, नौकरी आदि लूट-मिट रहा है।आज आदिवासी अस्तित्व को बचाने और बढ़ाने में एक मात्र आदिवासी नेता पूर्व सांसद सालखन मुर्मू के नेतृत्व में लड़ाई जारी है।उन्हीं के नेतृत्व में आगामी 15 जून 2023 को निम्न पांच मुद्दों को लेकर भारत बंद किया जाएगा। 1. वर्ष 2023 में हरहाल में प्रकृति पूजक आदिवासियों के लिए सरना धर्म कोड लेना होगा. जिसको झारखंड की हेमन्त सोरेन सरकार ने 11 नवंबर 2020 को सरना धर्म कोड की जगह लटकाने भटकाने के लिए सरना आदिवासी धर्म कोड अनुशंसा कर बिना राज्यपाल के सहमति हास्ताक्षर के दिल्ली भेज दिया| 2. राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त सबसे बड़ी आदिवासी भाषा संताली को झारखंड में प्रथम राजभाषा का दर्जा देना होगा। 3.मरांग बुरू (पारसनाथ पहाड़) जो गिरिडीह जिले में स्थित है वो आदिवासियों का ईश्वर है मरांग बुरू है,उसको झारखंड की हेमन्त सोरेन सरकार ने 5 जनवरी 2023 को लिखित रूप से जैनों को बेचा है, उसकी पुनर्वापसी जरुरी है।4. कुर्मी/महतो को जेएमएम पार्टी के हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में 8 फरवरी 2018 को सहमति हास्ताक्षर किया है, उसी तरह बंगाल से टीएमसी और उड़ीसा से बीजेडी ने सहमति दिया है जो ग़लत है, असली आदिवासियों (संताल,मुण्डा, उरांव,हो, खड़िया, पहाड़िया आदि) के लिए फांसी का फंदा है,

इसको रोकना जरूरी है।5. आदिवासी परंपरिक स्वशासन व्यवस्था जिसमें मांझी (ग्राम प्रधान) का बेटा ही (ग्राम प्रधान)मांझी बनता है, जिसके कारण ज्यादातर अनपढ़ पियक्कड़ संविधान कानून से अनभिज्ञ लोग ही काबिज हैं। उसमें सुधार कर जनतंत्र व संविधान कानून और मानवाधिकार को लागू करना होगा। इन्हीं मुद्दों को लेकर आगामी संताल हूल दिवस (क्रांति दिवस) 30 जून 2023 को विश्व सरना धर्म कोड जनसभा ब्रिगेड परेड मैदान कलकत्ता में बिहार, बंगाल, असम, उड़ीसा, झारखंड, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश सहित नेपाल, भूटान, बांग्लादेश आदि देशों से लाखों आदिवासी जुटेंगे जहां से आदिवासी सेंगेल अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद सालखन मुर्मू के द्वारा आदिवासी समाज के समाजिक, धार्मिक, और राजनीतिक गुलामी से आजादी का विगुल फुंका जाएगा। बैठक को सेंगेल सरना धर्म मंडवा प्रदेश अध्यक्ष रामकुमार मुर्मू, बोकारो जिला महिला मोर्चा अध्यक्ष ललिता सोरेन, हजारीबाग जिला अध्यक्ष बाहाराम हांसदा ने भी संबोधित किया। बैठक में राजाराम बेसरा,फिनीराम मांझी,महेश टुडू,तालो मांझी, श्याम लाल मांझी, राजमोहन टुडू,बेनी देवी, आशा देवी,बिरषी देवी,मुदरीका देवी, गीता देवी सहित आसपास गांव से दर्जनों महिला पुरुष लोग उपस्थित थे||

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here