डीवीसी कोनार डैम में चल रहे आमरण अनशन पांचवें दिन में अनशन की गई समाप्त

0
149

 

*बिष्णुगढ़:* बिष्णुगढ़ प्रखंड के बनासो स्थित डी.वी.सी. कोनार कार्यालय के समक्ष विस्थापित संघर्ष मोर्चा, नावाटांड के बैनर तले आमरण अनशन का पाँचवे दिन चला जिससे शनिवार को आज 11.30 बजे डीवीसी के पदाधिकारियों से अनशनकारियों के बीच आमरण अनशन स्थल पर वार्ता हुई और निम्नलिखित बिन्दुओं पर चर्चा के आधार पर अनशनकारी अनशन खत्म करने को तैयार हुए|

1. अनशनकारी / आन्दोलनकारी / ग्रामीण जिनमें परसाबेड़ा से विस्थापित लगभग 65 परिवारों के वंशज है, लोग ग्राम सभा में मुखिया, ग्राम प्रधान एवं वार्ड सदस्य से सत्यापित कराये हुए वंशावली के साथ परसाबेड़ा से विस्थापित परिवारों (जो कि झारखंड सरकार के ऑन लाईन अभिलेख में दर्शाये गये है) और मौजा बनासो टोला नावाटांड में पुर्नवासित परिवारों (जो कि डीवीसी के खतियान में दर्ज है) के बीच सीधा संबंध स्थापित करते हुए शपथ पत्र के साथ प्रपत्र XII(12) भरकर 15/04/2023 तक प्रस्तुत करेगें। डी.वी.सी. अपने पास उपलब्ध दस्तावेजों के आधार पर सभी प्रस्तुत प्रपत्र XII प्रारूप की जांच कर 20/04/2023 तक अंचलाधिकारी को उनके स्तर से जांचोपरान्त विधिसम्मत राय लेकर आगे की कार्यवाही हेतु अग्रसारित करेगा| 2. साथ ही साथ इस संबंध में डी.वी.सी. ने नावाटांड के ग्रामीणों को आश्वास्त किया कि वो यथाशीघ्र उपायुक्त, हजारीबाग को विस्थापित परिवारों के परसाबेड़ा खातियान को खोजने के लिए एक कमिटी गठित करने के लिए प्रार्थना करेंगे। वो कमिटी जिला स्तर पर उक्त खातियान खोजवाने का हरसंभव प्रयास करेगी । जिला अभिलेखागार में ना मिलने की स्थिति में वो कमिटी तात्कालीन बिहार राज्य अभिलेखागार, पटना का भी दौराकर उक्त दस्तावेज खोजने का काम करेगी । इस संदर्भ में डी.वी.सी. के अधिकारियों ने उपायुक्त महोदया को सारी परिस्थिति से अवगत कराया और उन्होने खातियान ना मिलने की समस्या पर साकारात्मक सहयोग का भरोसा दिया। अगर किसी भी प्रकार से ये दस्तावेज नहीं मिल पाया तो डी.वी.सी. इस संबंध में झारखंड सरकार से दिशा-निर्देश के लिए भी लिखेगी।

3. सन् 2019 के आन्दोलन के उपरान्त बनी सहमति जिसकी प्रति संलग्न है उसे डी.वी. सी. स्थानीय प्रबन्धन एवं सीएसआर विभाग नीतिगत समीक्षा के लिए अपने मुख्यालय को अगले 16 दिन के अन्दर अग्रसारित करेगा । उक्त समझौते पर परस्पर सहमति और हस्ताक्षर के बाद अनशनकारियों ने सहर्ष अपने आमरण अनशन को छोड़ने का निर्णय लेते हुए वार्ता को धन्यवाद ज्ञापन के साथ समाप्त किया ।गंगाधर महतो ने विस्थापित संघर्ष मोर्चा के अनशनकारियों सुरेश राम, महेंद्र प्रसाद महतो उर्फ माही पटेल, राजनेता सह अधिवक्ता चंद्रनाथ भाई पटेल, पूर्व जिप सदस्य जयप्रकाश पटेल, मुखिया चंद्रशेखर पटेल, पूर्व मुखिया राजेंद्र कुमार महतो, जीतन महतो, मनोज महतो के साथ उपस्थित सभी ग्रामीणों महिलाओं व अन्य सदस्यों को धन्यवाद ज्ञापन के साथ समाप्त किया||

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here