पूर्वी जिप सदस्य सरजू पटेल जी को झारखंडी भाषा खतियान संघर्ष समिति के केंद्रीय महामंत्री बनाए गए

0
28

विष्णुगढ़। विष्णुगढ़ प्रखंड के पूर्वी जिप सदस्य सरजू पटेल जी को झारखंडी भाषा खतियान संघर्ष समिति के केंद्रीय महामंत्री बनाए गए। केंद्रीय महामंत्री बनाए जाने पर विष्णुगढ़ प्रखंड सहित हजारीबाग जिले में खुशी का माहौल है. लोगों ने खूब बधाइयां दी। सरजू पटेल जी ने कहा कि शुरुआती दौर से ही जब भाषा आंदोलन छिड़ी थी. तब से ही आंदोलन में चढ़़- बढ़ कर के भाग लिए थे. हर आंदोलन में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करते थे भाषा आंदोलन को लेकर विष्णुगढ़ प्रखंड में शुरुवाती दौर मे भाषा आंदोलन के सबसे बहुत बड़ी मंच बनाई थी। साथ ही साथ सरजू पटेल के नेतृत्व में भाषा की लड़ाई को लेकर विभिन्न पंचायतों के छोटे- छोटे गांवों और गांव के बाजारों में जाकर डीजे के माध्यम से भाषा आंदोलन को लेकर के लोगों को जगाने के काम किया। साथ ही विष्णुगढ़ में सबसे बहुत बड़ा मंच सजाने का काम किए थे। आपको पता होगा की हजारीबाग में एक ऐतिहासिक पंचायती राज व्यवस्था में जिला परिषद सदस्य के रूप में चुने गए थे। असंभव को संभव करके दिखाए थे। जिला परिषद सदस्य बनने के बाद बहुत सारे लोगों ने भारी रकम लेकर के जिला अध्यक्ष बना दिए लेकिन सरजू पटेल जी ने अपने छोटी सी उम्र में जिला उपाध्यक्ष के चुनाव भी लड़े जिसमें बिना पैसों के अपना टैलेंट की दम पर 9 वोट लया था। इतना ही नहीं युवा पीढ़ी नेतृत्व करने के लिए युवाओं के प्रति जोश भरने के लिए काम किया है तभी विष्णुगढ़ प्रखंड का युवा साथी को सामाजिक न्याय सामाजिक विकास को लेकर बिना डरे बिचौलियों से मुकाबला करने के लिए उन्होंने लोगों को अपना हक अधिकार के लिए आवाज उठाने के लिए मनोबल बढ़ाया । साथ ही समाज में एक ईमानदार कुशल नेतृत्व पूरे प्रखंड में दिया है। उनका व्यक्तिगत परिचय एक गरीब परिवार किसान का बेटा है जिस समय पटेल का उम्र लगभग 13 से 14 वर्ष थे उस समय उनके पिताजी का हार्ट अटैक के कारण मृत्यु हो जाती है । और जब जयराम दा कहने लगे युवाओं की कुवांरो की सरकार बनाना है जयराम दा जिस प्रकार अपने छोटे भाई का शादी कर दिए उसी प्रकार सरजू पटेल जी ने भी अपनी शादी नहीं कर के अपने छोटे भाई का शादी करा दिए। पिताजी के मृत्यु हो जाने के बाद से काफी कठिनाई होती थी. पढ़ाई लिखाई में उनके नाना जी का काफी सहयोग रहा। जो अभी इस मुकाम में है. लोगों ने बिना स्वार्थ के अपने पद को निर्वहन कर रहे हैं और सभी जाति धर्म को लेकर चल रहे हैं । इसीलिए आज उनकी ईमानदारी निष्ठा देखकर झारखंडी भाषा खतियान संघर्ष समिति के सुप्रीमो जयराम महतो ने बहुत बड़ी जिम्मेवारी दी है। उनकी ईमानदारी और विभाग निर्धनता से हमारे झारखंड प्रदेश में कुशल नेतृत्व करने का लीडरशिप तैयार करेंगे और पूरे झारखंड में जालंधर को विभाग के तरीके से अपनी आवाज को बुलंद करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here